शिक्षक द्वारा आईसीटी का उपयोगशिक्षक
सामान्य रूप से आईसीटी का सबसे अधिकउपयोगप्रशासनिक कार्यों के लिएकरते हैंशिक्षक अक्सर आईसीटी का उपयोग 'नियमित कार्य' (रिकॉर्ड रखने, लेसन प्लान विकास, सूचना प्रस्तुति, इंटरनेट पर बुनियादी जानकारी की खोज) के लिए करते हैं।अधिक जानकार शिक्षक "कंप्यूटर सहायता अनुदेश”पर कम भरोसा करते हैंआईसीटी के उपयोग के अधिक जानकार शिक्षक कंप्यूटर सहायता अनुदेश का उपयोग अन्य शिक्षकों की तुलना में कम करते हैं, लेकिन कुल मिलाकर आईसीटी का अधिक उपयोग करते हैं।
शिक्षक आईसीटी का उपयोगकैसे करते हैं, यह उनकीसामान्य शिक्षण शैली पर निर्भरकरताहैआईसीटी के उपयोग के प्रकार शिक्षक के शैक्षणिक दर्शन केसाथ जुड़ा होता हैं।
जो शिक्षक आईसीटी का सर्वाधिक उपयोगकरते हैं – और सर्वाधिक प्रभावकारी तरीके से – उनके पारंपरिक 'संचरण-विधि' द्वारा शिक्षण के उपयोग की संभावना कम होती है। जो शिक्षक अधिक प्रकार के सॉफ्टवेयर का उपयोग करते हैं, उनकी प्रवृत्ति"रचनात्मक" शिक्षण की अधिक होती है।शिक्षण और सीखने में सहायता के लिए आईसीटी की शुरूआत औरउपयोग शिक्षकों के लिए अधिक समय खर्च करने वाला होता है,दोनों स्थितियों में जबकि वे शिक्षण प्रथाओं और रणनीतियों में परिवर्तन कर रहे हों और जबकि ऐसी रणनीतियों का नियमित रूप से उपयोग किया जाता है।
------_------------
सीधे शब्दों में कहें तो: आईसीटी के साथ अध्यापन में अधिक समय लगता है (इस बात पर अनुमान अलग-अलग होते हैं किएक ही सामग्री को कवर करने के लिए कितने अतिरिक्त समय की आवश्यकता होती है; 10% एक आम अनुमान है)।
शिक्षक का आत्मविश्वास और प्रेरणाकुछहीशिक्षकआत्मविश्वासपूर्वकआईसीटी का उपयोगकर सकते हैंआईसीटी संसाधनों के एक विस्तृत रेंज का प्रयोग करने में कुछ ही शिक्षकों को आत्मविश्वास बना रहता है, और जिस तरह से पाठ संचालित किया जाता है, सीमित विश्वास उसे प्रभावित करता है।भयकई शिक्षकों को आईसीटी का उपयोग करने से रोकता हैओईसीडी देशों में, कई शिक्षकों को आईसीटी का उपयोग करनेके प्रति अभी भी भय है, इसलिए वे अपने शिक्षण में उनके उपयोग के लिए अनिच्छुक रहते हैं।कम से कम शुरुआत में, आईसीटी से संपर्क शिक्षक के व्यावसायिक विकास को बढ़ावा देने के लिए सक्षम उपकरण के रूप में महत्वपूर्ण प्रेरणास्रोत हो सकता है।व्यावसायिक विकास जारी रखनेमेंशिक्षककी प्रभावीभागीदारी को बढ़ावा देनेके लिए प्रोत्साहन प्रणालियांविकसितकी जानीचाहिए
शिक्षकों को व्यावसायिक विकास गतिविधियों में सक्रिय रूप से भाग लेने के लिए अतिरिक्त प्रेरणा और प्रोत्साहन की आवश्यकता होती है। प्रोत्साहन कई तरीकों से दिया जा सकता है, जिनमें प्रमाणीकरण, पेशेवर उन्नति, वेतनवृद्धियां, व्यावसायिक विकास हेतु सवैतनिक अवकाश, स्कूल और समुदाय स्तर पर और साथियों के बीच औपचारिक और अनौपचारिक मान्यता, कम अलगाव तथा अधिक उत्पादकता
।शिक्षकों द्वाराआईसीटीकेउपयोगके लिएसबसे
महत्वपूर्ण कारक हैसुगमताशिक्षक के आईसीटी से संबंधित कौशल के विकास को जारी रखने के लिए सबसे महत्वपूर्ण कारक है उनके द्वारा नियमित रूप से इनका उपयोग कर पाना तथा प्रासंगिक आईसीटी उपकरण के लिए सुगमता लाना।विषय ज्ञानशिक्षककाविषय ज्ञान आईसीटीकेउपयोगको प्रभावित करताहैजिस तरह शिक्षकों द्वारा पाठ में आईसीटी का उपयोग कियाजाता है, वह इस बात पर निर्भर करता है कि अपने विषयों परशिक्षकों की कितनी पकड़ है और वे किस तरह आईसीटी संसाधनों को प्रासंगिक बनाकर उनका उपयोग कर सकते हैं।
शिक्षककी विषयवस्तु परमहारथऔर छात्रकी ग्रहण क्षमता कीसमझ आईसीटीकेउपयोगको अधिक प्रभावी बनाती हैप्रमाण यह बताता है कि जब शिक्षक - विषय ज्ञान और जिस तरह से विद्यार्थी विषय को समझते हैं – इन दोनों बातोंके अपने ज्ञान का उपयोग करते हैं, तब के छात्र की उपलब्धि पर आईसीटी के प्रयोग का अधिक प्रत्यक्ष प्रभावपड़ता है।
आईसीटी के माध्यम से नई/ अतिरिक्त जानकारीसेसंपर्क पर्याप्त नहीं हैप्राप्ति पर प्रभाव सबसे अधिक तब होता है जब विद्यार्थियों को सोचने के लिए चुनौती दी जाए और उनकी अपनी समझ पर सवाल किए जाएं, बजाय नई और अतिरिक्त जानकारी के सम्पर्क में लाने के।
आईसीटी विषय के मामले मेंस्व-शिक्षाके लिए शिक्षक कीसहायता कर सकते हैंअद्यतन और सीखने के अतिरिक्त संसाधनों का उपयोग प्रदानकर, आईसीटी शिक्षक को उसके विषय क्षेत्र में स्व-शिक्षाके लिए सक्षम कर सकते हैं।शिक्षक का व्यावसायिक विकासशिक्षकका सततप्रशिक्षण औरसहायताशिक्षा के क्षेत्र में आईसीटी के सफल उपयोग के लिए महत्वपूर्ण हैशिक्षक का प्रशिक्षण और व्यावसायिक विकास शिक्षा के क्षेत्र में आईसीटी के सफल प्रयोग के लिए मुख्य चालक के रूप में देखा जाता है।
शिक्षककाव्यावसायिक विकासएक प्रक्रिया है,एक घटना नहींआईसीटी के उपयोग में शिक्षकों को सहज महसूस करवाने के लिए परंपरागत, एक बार की शिक्षक प्रशिक्षण कार्यशालाएंअधिक प्रभावी नहीं पाई गई हैं, उनके द्वारा शिक्षण में समेकित करने में तो बिल्कुल भी नहीं। असतत, 'एक-बार के' प्रशिक्षण कार्यक्रम सतत  व्यावसायिक विकास गतिविधियों की तुलना में कम प्रभावी देखे गए हैं।
आईसीटीकापरिचय शिक्षकों के व्यावसायिक विकासकी आवश्यकताओं में वृद्धि करता हैशिक्षा के क्षेत्र में आईसीटी का प्रभावी उपयोग शिक्षकों के प्रशिक्षण और व्यावसायिक विकास की जरूरत को बढ़ाता है। हालांकि, इस तरह की बढ़ी हुई ज़रूरतों के लिए अधिक और बेहतर शैक्षिक सामग्री के लिए सुगमता प्रदान कर, नियमित प्रशासनिक कार्यों में सहायता देकर, मॉडल और प्रभावी शिक्षण पद्धतियों का सिम्युलेशन प्रदान कर, और शिक्षार्थी को सहायता के नेटवर्क उपलब्ध कराकर – आमने-सामने तथा दूरस्थ शिक्षा – दोनों वातावरणों में - और वास्तविक समय में या एसिंक्रोलॉजी के लिए आईसीटी महत्वपूर्ण उपकरण हो सकते हैं
saफल शिक्षक व्यावसायिक विकास के मॉडल तीन चरणों में विभाजित किएजा सकतेहैंसफल सतत-व्यावसायिक विकास के मॉडल तीन चरणों में विभाजित किए जा सकते हैं:1) सेवा-पूर्व, शिक्षा शास्त्र, विषय की महारथ, प्रबंधन कौशल और विभिन्न शिक्षण उपकरणों (आईसीटी सहित) के उपयोग पर ध्यान केंद्रित करना;2) सेवा-के दौरान, संरचित, आमने-सामने तथा दूरस्थ शिक्षा के अवसर, सेवापूर्व प्रशिक्षण को विस्तृत करने और सीधे शिक्षक की जरूरतों के लिए प्रासंगिक के निर्माण में; और3) शिक्षकों के लिए आईसीटी द्वारा सक्षम सतत औपचारिक और अनौपचारिक शैक्षणिक और तकनीकी सहायता, दैनिक जरूरतों और चुनौतियों पर लक्षित करना।
शिक्षक काप्रभावी व्यावसायिक विकास,प्रभावी शिक्षण पद्धतियोंकेमॉडलके अनुरूप होनाचाहिएशिक्षक के प्रभावी व्यावसायिक विकास यथासंभव कक्षा के वातावरण के अनुरूप होना चाहिए। आईसीटी के उपयोग पर ‘हैंड्स-ऑन” अनुदेश आवश्यक है जहां आईसीटी को शिक्षण औरसीखने की प्रक्रिया का महत्वपूर्ण घटक माना जाता है। इसके अलावा, व्यावसायिक विकास गतिविधियां प्रभावी तरीकों और व्यवहार के मॉडल के अनुरूप होनी चाहिये और उन्होंने शिक्षकों के बीच सहयोग का प्रोत्साहन तथा समर्थन करना चाहिए।
स्कूल स्तर पर आईसीटी सुविधाओं के उपयोग से सतत व्यावसायिक विकास को सफलता के लिए एक प्रमुख कारक के रूप में देखा जाता है, खासकर तब जबकि ये शिक्षकों की दैनिक आवश्यकताओं और प्रथाओं के लिए सीधे प्रासंगिक संसाधनों और कौशलों पर केन्द्रित हों।मूल्यांकन विधियों में प्रशिक्षण महत्वपूर्ण हैव्यावसायिक विकास में शैक्षणिक पद्धतियों के मूल्यांकन और संशोधन के तरीके तथा शिक्षक को मूल्यांकनके विभिन्न तरीकों के सम्पर्क में लाना शामिल होने चाहिये।
प्रभावी व्यावसायिक विकास योजनाके लियेपर्याप्तनियोजन की आवश्यकता होतीहैशिक्षक की व्यावसायिक विकास गतिविधियों के निर्माण और भागीदारी में मूल्यांकन से पहले आवश्यकता का मूल्यांकन होना चाहिए, इन गतिविधियों की नियमित निगरानी और आकलन होना चाहिये, और फीडबैक लूप स्थापित किये जाने चाहिए अगर व्यावसायिक विकास प्रभावी करना हो, जो शिक्षकों की जरूरतों के लिए लक्षित हो।शिक्षकों के लिएसतत,नियमित रूप से समर्थन महत्वपूर्ण हैशिक्षक के व्यावसायिक विकास में मदद के लिये सतत और नियमित मदद आवश्यक है और यह आईसीटी के उपयोग के माध्यम से प्रदान की जा सकती है (वेब साइटों, चर्चा समूहों, ई मेल समुदायों, रेडियो या टीवी प्रसारण के रूप में)।सक्षमता प्रदान करने वाले कारकशिक्षकद्वाराआईसीटीकेउपयोग का अनुकूलनलागूकरने के लिएकई किस्म केपरिवर्तन किये जानेचाहिएशिक्षण के तरीकों में परिवर्तन, पाठ्यक्रम और मूल्यांकन में फेरबदल, और स्कूलों को और अधिक स्वायत्तता प्रदान करने से आईसीटी के उपयोग के अनुकूलनमें मदद मिलती है।
सक्षमता प्रदान करने वाले पर्याप्त कारक होने के साथ, शिक्षक आईसीटी का उतना 'रचनावादी' उपयोग कर सकते हैं, जितना उनका शैक्षणिक दर्शन अनुमति देता हो।कार्यशीलतकनीकी अवसंरचना (जाहिर है)महत्वपूर्णहैयदि उनके द्वारा आईसीटी का प्रभावी ढंग से इस्तेमाल किया जाना हो तो शिक्षकों को कार्यशील कंप्यूटर की पर्याप्त उपलब्धता होनी चाहिये, और उन्हे पर्याप्त तकनीकी सहायता प्रदान की जानी चाहिये
।आईसीटीकेपरिचयमेंसमय लगता हैनए कौशल विकसित करने, अपनी मौजूदा शिक्षण पद्धतियों और पाठ्यक्रम में अपनी एकरूपता का पता लगाने और आवश्यक अतिरिक्त पाठ की योजना बनाने के लिये शिक्षकों को पर्याप्त समय दिया जाना चाहिये, यदि आईसीटी का प्रभावी ढंग से इस्तेमाल करना हो।स्कूल प्रशासन और समुदायकीसहायतामहत्वपूर्ण हो सकतीहैशिक्षक द्वारा आईसीटी के उपयोग के लिए स्कूल प्रशासकोंऔर कुछ मामलों में आसपास के समुदाय का समर्थन महत्वपूर्ण माना जाता है। इस कारण से, दोनों समूहों की लक्षित पहुंच अक्सर आवश्यक होती है यदि शिक्षा में आईसीटी के सहयोग पर निवेश अनुकूलित किया जाना हो।अभ्यास के
समुदाय शिक्षककेव्यावसायिक विकासमें सहायता के लियेमहत्वपूर्ण उपकरणहो सकते हैंअभ्यास तथा साथियों के नेटवर्क के औपचारिक और अनौपचारिक समुदाय के अस्तित्व शिक्षा की पहल और गतिविधियों में आईसीटी की सहायता के लिये महत्वपूर्ण उपकरण हो सकते हैं। इस तरह की सहायता तंत्रों की मदद आईसीटी के उपयोग के माध्यम से की जा सकती है।शिक्षा के क्षेत्र में आईसीटी शुरू करने सेसीखे गये सबकसाझा करने की आवश्यकता हैचूंकि शिक्षा की सहायता के रूप में आईसीटी की शुरूआत अक्सर एक बड़े परिवर्तन या सुधार प्रक्रिया का हिस्सा होती है, यह महत्वपूर्ण है कि आईसीटी के सफल प्रयोग की जानकारी को बढ़ावा दिया जाये तथा इसका फैलाव किया जाये।

Advertisement

0 comments:

Post a Comment

 
Top